English
मुख्य विशयवस्तु में जाएं
Prof U R Rao Dr. Vikram Sarabhai
मुखपृष्ठ : विज्ञान उन्नयन : एन एस डी NSD-2018: सार गत अद्यतन: 12-July-2018

एन एस डी NSD-2018: सार










राष्टीय विज्ञान दिवस पूरे भारत में, प्रति वर्ष 28 फरवरी को युवा लोगों में एक वैज्ञानिक चेतना को आत्मसात करने तथा बहुत ही छोटी उम्र में वैज्ञानिक जिज्ञासा की और उनकी कुतूहलता को बढाने हेतु बडे आवेग और उत्साह से मनाया जाता है।इस दिवस का आचरण, वर्ष 1928 में भारतीय भौतिक विज्ञानी सर.सी.वी.रामन् द्वारा “रामन प्रभाव” की खोज की स्मृति में है जिससे उनको वर्ष 1930 में भौतिक विज्ञान के लिए अत्यंत गौरवमय नोबल पुरस्कार मिला था।

यू आर राव उपग्रह केन्द्र, बेंगलूरु ने प्रतिवर्ष, केन्द्र द्वारा आयोजित विविध कार्यक्रमों में भाग लेने बेंगलूरु के विभिन्न स्कूलों से विद्यार्थियों तथा शिक्षकों को भाग लेने हेतु प्रोत्साहित करते हुए राष्ट्रीय विज्ञान दिवस(एन एस डी) का आयोजन किया ।“संधारणीय भविष्य हेतु विज्ञान तथा प्रोद्योगिकीं-NSD-2018 का विषय रहा तथा इस विषय से संबधित एन एस डी के सभी कार्यक्रम का आयोजन किया गया था।

यू आर एस सी में एन एस डी समारोह, दि 28 फरवरी 2018 को निदेशक, यू आर एस सी द्वारा उद्धाटन किया गया। दो प्रदर्शनियों को अर्थात् मेसर्स अगस्त्या अंतरराष्ट्रीय फौन्डेशन द्वारा मोबाइल विज्ञान प्रर्दशनी तथा मेसर्स.वर्णाज प्रौद्योगिकी द्वारा मोबाइल प्लेनेटेरियम को मुख्य भवन के द्वार पर लगाया गया। इन प्रदर्शनियों द्वारा मुख्यतः विद्यार्थियों को मनोरंजन प्राप्त हुआ। इसके अलावा , विविध स्कूलों से आए हुए बच्चे तथा शिक्षकों ने हमारे केन्द्र के अंतरिक्ष प्रदर्शनी को देखा जिसमें आर्यभट्टा से लेकर मंगल कक्षित्र मिशन तक अनेक उपग्रह मॉडेलों को और अंतरिक्ष तथा उपग्रह प्रौद्योगिकी से संबंधित प्रदर्शनियाँ हैं।

इस वर्ष विद्यार्थियों के लिए आयोजित कार्यक्रम में बेंगलूरु के विविध भागों से करीब 100 स्कूलों से लगभग 1000 विद्यार्थियों ने भाग लिया। दि.17 फरवरी 2018 को विद्यार्थियों के लिए दो कार्यक्रम “निबंध प्रतियोगिता” तथा वैज्ञानिक मनोदशा परीक्षण प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। 30 से भी अधिक स्कूलों से करीब 150 विद्यार्थियों ने “ संधारणीय भविष्य के लिए सौर शक्ति ”तथा “संधारणीय भविष्य के लिए विद्युतयान : वरदान या अभिशाप”, ये दो विषयों पर उत्कृष्ट निबंध लिखा।वैज्ञानिक स्वभाव की परीक्षा कार्यक्रम ने सभी प्रतिभागी विद्यार्थीयों को विविध जिज्ञासू प्रश्नों द्वारा उनको सोचने और वैज्ञानिक तर्क को जगाने हेतु करीब 90 मिनट तक विज्ञान की गहराइयों में बांधे रखा।

24 फरवरी 2018 को, शिक्षकों के लिए कार्यक्रम, नवीन विचार तथा आशुभाषण विज्ञान प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। शिक्षकों के लिए कार्यक्रम में करीब 30 शिक्षकों और विद्यार्थियों ने भाग लिया तथा संधारणीय भविष्य के लिए विज्ञान तथा प्रौद्योगिकी विषय पर शिक्षकों ने बात किया जिसमें से 15 प्रस्तुतीकरण को चयन किया गया।

नए विचार कार्यक्रम में काफी संख्या में अर्थात करीब 30 संख्या में प्रतिभागियों ने” भौमेतर ग्रह पर जीवन होना निश्चित है, अंतरिक्ष मिशनों के लिए आपकी क्या योजना है और “अंतरिक्ष उद्योग में कृत्रिम आसूचना का उपयोग विषयों पर अपने नए तथा सृजनात्मक विचारों को व्यक्त किया। इन विषयों पर उत्तेजक विचारों को युवा तथा बुद्धिशील से सुनना काफी प्रभावपूर्ण रहा।

विज्ञान आशुभाषण विज्ञान प्रतियोगिता में विविध स्कूलों के करीब 70 विद्यार्थियों ने उत्साह से भाग लिया तथा एन एस डी-2018 के विषय वस्तु से संबंधित विषय पर बात किया। छोटे बच्चों के आशु विचारों को सुनना बहुत ही संतोषदायक था जिसमें विविध विषयों पर सूचनात्मक बिंदुओं पर विचार प्रस्तुत किया गया। यह बहुत ही कठिन प्रतियोगिता थी तथा निर्णायकों को पुरस्कार विजेताओं को चयन करने में कठिनाई हुई। दि.28 फरवरी 2018 –एन एस डी-2018 को, अपराह्न में तीन अतिरिक्त प्रतियोगिताओंः विज्ञान प्रतियोगिता, स्पॉट पैन्टिंग तथा कार्य में विज्ञान का आयोजन किया गया जिसमें करीब 300 विद्यार्थियों ने इन प्रतियोगिताओं में भाग लिया।जहाँ विज्ञान प्रश्नोत्त्तरी ने युवा मनों में ज्ञान की गहराइयों को परखा वही कार्य में विज्ञान प्रतियोगिता ने उनमें विज्ञान का आधारभूत समझ के स्तर को साकार किया। स्थल पैन्टिंग प्रतियोगिता ने युवा और उत्साही विद्यार्थियों की कलाकारिता को दर्शाया जिसने सबको बहुत चकित किया।

समापन समारोह, दि.28 फरवरी 2017 अपराहन 2017 को आयोजित किया गया, जिसका प्रारंभ राष्ट्रगान से हुआ।डॉ.एम.अण्णादुरै, निदेशक, यू.आर.एस.सी. ने समारोह की अध्यक्षता की। माधुर्यपूर्ण प्रार्थना गीत को सुश्री. अंकिता प्रमाणिक, के.वी.एन.ए.एल के विद्यार्थिनी ने गाया। डॉ.अनिल अग्रवाल अध्यक्ष, एन एस डी-2018, ने लघु भाषण द्वारा सभा को संबोधित किया। यू आर एस सी पर एक लघु प्रस्तुतीकरण सुश्री.रहमतनीसा, अंतरिक्ष नौसंचालन समूह और डॉ.शंकर सुब्रमण्यम्, अंतरिक्ष खगोलिकी समूह द्वारा किया गया। डॉ.एम.सी.रमादेवी, सदस्य सचिव, एन एस डी-2018 का एन एस डी-2018 का रिपोर्ट प्रस्तुत किया। डॉ.एम.अण्णादुरै, निदेशक, यू आर एस सी समारोह की अध्यक्षता की और अध्यक्षीय भाषण दिया। उनके भाषण ने सभा में उपस्थित सभी विद्यार्थियों का मनोरंजन किया तथा यह अत्यंत प्रतिक्रियात्मक रहीं। मनोरंजनात्मक विषय बायनरी तारे तथा गुरुत्वाकर्षणीय तरंगों के बारे में जवाहरलाल नेहरू तारालय से आई डॉ.बी.एस.शैलजा ,मुख्य अतिथि, ने एन एस डी में प्रेरणादायक व्याख्यान दिया।यह बहुत ही ज्ञानवर्धक तथा प्रतिक्रियात्मक रहीं तथा व्याख्यान के उपरांत ध्यान से सुननेवाले विद्यार्थियों ने अनेक प्रश्न पूछे । एन एस डी-2018 में विविध प्रतियोगिताओं के पुरस्कार विजेताओं को मंच पर आसीन प्रतिष्ठितों द्वारा पुरस्कार वितरित किया गया। यू आर एस सी में एन एस डी -2018 “ग्लिट्ज” का विमोचन गणमान्यों द्वारा किया गया। एन एस डी-2018 के संयोजक श्री.जयसिंहा द्वारा धन्यवाद ज्ञापन प्रस्तुत किया गया।

यू आर एस सी में राष्ट्रीय विज्ञान दिवस, एन एस डी-2018 को आयोजन समिति, एन एस डी-2018 के सदस्य और अनेक संयोजक द्वारा एवं अनेक कार्यक्रमों तथा प्रतियोगिताओं में बेंगलूरु के अनेक स्कूलों के बहुत ही प्रोत्साहदायक प्रतिक्रिया सें बहुत ही सुंदर ढंग से आयोजित हुआ।



विषयफाइल का मापफाइल का प्ररुप कार्रवाईसहायता
SCIENCE DAY GLITZ4MBपी.डी.एफ.देखें सहायता के लिए यहां किलक करें