English
मुख्य विशयवस्तु में जाएं
Prof U R Rao Dr. Vikram Sarabhai

मुखपृष्ठ : अभियान : गहन अंतरिक्ष और विज्ञान

गत अद्यतन: 24-Feb-2019

गहन अंतरिक्ष

गहन अंतरिक्ष / अंतर्ग्रहीय मिशन में पृथ्वी के बाहर हमारे सौर प्रणाली के ग्रह / ग्रहों तक यात्रा शमिल करना है।

अंतर्ग्रहीय मिशन को उपग्रह, लैन्डर क्रॉफ्ट तथा रोवरों इत्यादि में से किसी एक का या सभी का उपयोग करते हुए अभियानित किया गया है। इसका मूल उद्देश्य है, संचार से संबंधित प्रौद्योगिकियों का निरूपणः, गहन अंतरिक्ष वातावरण में तथा ग्रहों पर उत्तरजीवन, ग्रहों का भौतिकी, रसायनिकी तथा वायुमंडलीय प्रणालियों का अन्वेषण।

ऐसे अन्वेषण के परिणामस्वरुप निम्नलिखित मदद मिलती है -

  • भूमि के वातावरण के सì 6;ध्य निकटता के संदर्भ में ग्रह वायुमंडल की जानकारी
  • ग्रहों में निवास / उपनिवेशन हेतु योजना
  • सौर झंझावत, धूमकेतु तथा उल्कापिंड प्रहार आदि जैसे सौर प्रणाली में उत्पन्न आपाती पहलुओं के पूर्व संसूचन

परियोजना प्रमोचन दिनांक प्रमोचन पैड प्रमोचनयान

विज्ञान अभियान

विज्ञानी उपग्रह अभियान हमारे ब्रह्माण्ड को अधिक विस्तृत रुप से समझने के लिए प्रयत्न करते हैं। एस्ट्रौसैट भारत का बहु तंरगदैर्घ्य अंतरिक्ष वेधशाला को समर्पित है। एस्ट्रौसैट प्रकाशिक, पराबैंगनी, विद्युतचुंबकीय स्पेकट्रम के निम्न एवं उच्च ऊर्जा एक्स-किरण क्षेत्रों में ब्रह्माण्ड का प्रेक्षण करेगा, चूँकि अन्य वैज्ञानिक उपग्रहों से अधिकतम उपग्रह तंरगदैर्घ्य बैण्ड के संकीर्ण परास प्रेक्षित करने की क्षमता रखते हैं।

एस्ट्रौसैट अभियान के वैज्ञानिक उद्देश्य निम्नलिखित हैं :
  • न्यूट्रॉन तारें एवं ब्लैक होल से सम्मिलित द्विआधारी तारा प्रणाली में उच्च ऊर्जा प्रक्रम को समझने हेतु
  • न्यूट्रॉन तारों के चुंबकीय क्षेत्रों का अनुमान लगाने हेतु
  • हमारी आकाश गंगा से परे तारा प्रणालियों में तारा जन्म क्षेत्र एवं उच्च ऊर्जा प्रक्रम का अध्ययन करने हेतु
  • आकाश में नए संक्षिप्त उज्जवल एक्स-किरण स्रोत का पता लगाने हेतु
  • पराबैंगनी क्षेत्रों में ब्रह्माण्ड के सीमित गहन क्षेत्र सर्वेक्षण में निष्पादन करने हेतु

परियोजना प्रमोचन दिनांक प्रमोचन पैड प्रमोचनयान