English
मुख्य विशयवस्तु में जाएं
Prof U R Rao Dr. Vikram Sarabhai
मुखपृष्ठ : विज्ञान उन्नयन : एन.एस.डी-2017 सार गत अद्यतन: 16-March-2018

एन.एस.डी-2017ः सार

यू.आर.राव उपग्रह केंद्रने 28 फरवरी को राष्ट्रीय विज्ञान दिवस का आयोजन किया। निदेशक, यू.आर.एस.सी. के करकमलों द्वारा कार्यक्रमों के उद्घाटन से यह दिन आरंभ हुआ। पूर्वाह्न में दो वैज्ञानिक प्रतियोगिताओं - विज्ञान प्रश्नोत्तरी एवं स्पॉट पेंटिंग का आयोजन एकसाथ दो भिन्न स्थानों पर किया गया। विभिन्न विद्यालयों से विद्यार्थी एवं अध्यापकों ने अंतरिक्ष प्रदर्शनी देखी जिसमें आर्यभट्ट से लेकर मंगल कक्षित्र मिशन तक विभिन्न उपग्रह मॉडल तथा अंतरिक्ष एवं उपग्रह प्रौद्योगिकी से संबंधित प्रदर्श प्रदर्शित किए गए थे। राष्ट्रीय विज्ञान दिवस समारोह के भाग के रुप में, पहली कक्षा से दसवीं कक्षा तक विद्यार्थियों को ए., बी. एवं सी. श्रेणी में विभाजित करते हुए उनके लिए सात प्रतियोगिताओं का आयोजन किया गया। इस वर्ष के राष्ट्रीय विज्ञान दिवस का विषय-वस्तु “दिव्यांगों के लिए विज्ञान तथा प्रौद्योगिकी” रहा।

निबंध लेखन में लगभग 120 विद्यार्थियों ने भाग लिया जो कन्नड़, हिंदी एवं अंग्रेज़ी में चयनित वैज्ञानिक विषयों पर अपने विचार प्रस्तुत करने हेतु आतुर थे। डॉ. के. कस्तूरीरंगन विशिष्ट पुरस्कार दो श्रेणी के प्रत्येक बी. एवं सी. तीन भाषाओं में से उत्कृष्ट निबंध को दिया गया। nsd17

वैज्ञानिक जिज्ञासा परीक्षा विद्यार्थियों के चारों ओर सामान्य दैनंदिन घटनाओं से संबंधित प्रश्नों को सी. श्रेणी को उत्तर देने की क्षमता की परीक्षा लेने हेतु प्रतियोगिता आयोजित की गई। लगभग 50 विद्यार्थियों ने भाग लिया।

विज्ञान एवं भविष्य जीवन में रुचि को अपनाने में अध्यापकगण जोकि एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं, अतः स्वच्छ भारत अभियान के लिए विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी का प्रयोग पर अध्यापकों के लिए प्रतियोगिता का आयोजन किया गया, जिसमें विद्यार्थी समुदाय को प्रोत्साहित करने हेतु अभिनव विचारों से लगभग 12 अध्यापकों ने भाग लिया।

तत्काल विज्ञान अभिभाषण ने वैज्ञानिक विचारों को अभिव्यक्त करने के लिए विद्यार्थियों की वाग्मिता एवं क्षमता की परीक्षा ली जो कि बी. एव सी. श्रेणी के विद्यर्थियों के लिए एक और आकर्षित प्रतियोगिता रही। लगभग 50 विद्यार्थियों ने भाग लिया।

क्रिया में विज्ञान एक रुचिपूर्ण कार्यक्रम रहा जिसमें विद्यार्थियों के लिए विभिन्न प्रयोगों की प्रदर्शनी की गई एवं मूल सिद्धांत बताए गए। इस कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य वास्तविक प्रयोगों की सहायता से विद्यार्थियों को विज्ञान के प्रति प्रतिपादित करने एवं विज्ञान और उसके अनुप्रयोगों को मूल रुप से समझने हेतु रहा। यह कार्यक्रम बी. एवं सी. श्रेणी के विद्यार्थियों के लिए आयोजित किया गया जिसमें लगभग 60 विद्यार्थियों ने भाग लिया।

नवीन विचार प्रतियोगिता का आयोजन बी. श्रेणी के लिएप्रौद्योगिकी के द्वारा दिव्यांगों के लिए सौहार्दपूर्ण गृहों का निर्माण तथा सी. श्रेणी के लिए विद्यालय में प्रौद्योगिकी द्वारा दिव्यांगों की आत्मनिर्भरता जैसे दिव्यांगों के लिए वैज्ञानिक/प्रौद्योगिकी के नवीन वाले विषय-वस्तु के आधार पर किया गया। इसमें 112 विद्यार्थियों ने पंजीकरण करवाया।

विज्ञान प्रश्नोत्तरीका आयोजन दो चरणों में किया गया। लिखित परीक्षा के प्रथम चरण के दौरान चयनित टीमों को अंतिम पुरस्कार के लिए भाग लेने हेतु अनुमति दी गई।

स्पॉट पेंटिंग &में ए. श्रेणी से उदीयमान कलाकारों ने प्रकृति पर रंगीन सृजनों को एवं बी. श्रेणी में दिव्यांगों ने अंतरिक्ष व प्रौद्योगिकी विषय-वस्तु पर चित्र बनाया।

इन कार्यक्रमों के अलावा, युवा मस्तिष्क को प्रदीप्त करने के लिए सामान्य प्रयोगों द्वारा विज्ञान तत्वों को समझने हेतु विद्यार्थियों के लिए कैम्पस् के अंदर एम./एस. अगस्त्य अंतर्राष्ट्रीय फाउंडेशन, द्वारा मोबाइल विज्ञान प्रदर्शनी का आयोजन किया गया। स्कूल के विद्यार्थी एवं अध्यापकगण ने प्रदर्शनी के लिए रखे विभिन्न वैज्ञानिक प्रयोगों में रुचि दिखाई। ऐसा इस वर्ष पहली बार आयोजित किया गया था।

विद्यार्थियो के लिए एम./एस. वरनाज़ प्रौद्योगिकियों द्वारा मोबाइल प्लेनटेरियम का आयोजन किया गया तथा लगभग 450 विद्यार्थियों ने खगोलिकी एवं वैज्ञानिक कार्यक्रमों को देखा तथा रोमांचक अनुभव किया।

28 फरवरी 2017 को समापन समारोह का आयोजन किया गया, जिसका आगाज़ मधुर वंदना गीत से हुआ, तदनंतर श्री बसवराज एस. अक्कीमराडी, अध्यक्ष, एन.एस.डी.-2017 द्वारा स्वागत भाषण दिया गया। डॉ. पी. सुब्ब राव ने सर सी.वी. रामण की जीवनी एवं उपलब्धियों के बारे में बताया जिनके सम्मान में इस कार्यक्रम को मनाया जाता है। डॉ. एम. अण्णादुरै, निदेशक यू.आर.एस.सी. ने समारोह की अध्यक्षता की।

इस समारोह के मुख्य अतिथि, प्रो. सुब्रमण्यन रवि, निदेशक, रामन अनुसंधान संस्था, बेंगलूरु ने A journey to the far side of the Moon विषय पर आमंत्रित अभिभाषण दिया। यह भाषण विद्यार्थियों के लिए अत्यधिक प्रेरणादायक था।

यह कार्यक्रम निदेशक तथा मुख्य अतिथि द्वारा विजेताओं को पुरस्कार वितरण के साथ संपन्न हुआ। संपूर्ण कार्यक्रम एवं प्रतियोगिताओं का आयोजन संयोजक एवं सदस्य, आयोजन समिति, एन.एस.डी.-2017 द्वारा सुचारु रुप से किया गया।

nsd17 nsd17 nsd17 nsd17 nsd17